मंगलवार, 14 दिसंबर 2010

भड़ास blog: आखिर कब तक सहूंगी......

2 टिप्‍पणियां:

राजीव थेपड़ा ने कहा…

ek//bahut see baaton ko sahanaa padhtaa hai....
do//keechad se bhi aap chaaho to kamal paa sakte ho....aakhirkaar vo vahin to rahataa hai naa...!!!

Murari Pareek ने कहा…

जी बिलकुल जो भी हमारे मन मचल रहा हो आपस में शेयर करना ही मानविकता को दर्शाता है....